एनआईएन (National Institute of Naturopathy) , आयुष मंत्रालय ने हल्के से गंभीर कोविड-19 रोगियों के लिए डॉ. बिस्वरूप रॉय चौधरी के N. I. C. E प्रोटोकॉल की सलाह दी

रिपोर्ट- भारती बघेल
मुख्य बातें इस प्रकार हैं:
1) N.I.C.E प्रोटोकॉल की मदद से हल्के से गंभीर कोविड-19 रोगियों को 7 दिन के अंदर ठीक किया जा सकता है।
2) N.I.C.E प्रोटोकॉल में किसी भी तरह की दवाइयां शामिल नहीं है, इसमें सिर्फ रस भरे फल और नारियल पानी है और जिन रोगियों को सांस लेने में कठिनाई होती है उनके लिए प्रोन वेंटिलेशन भी इसमें शमिल है।
3) N.I.C.E प्रोटोकॉल की वजह से रोगियों में कोई मृत्यु दर या दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है।
4) कोविड-19 सेंटर (अहमदनगर) में सोशल डिस्टेंसिंग/पीपीई किट/मास्क के बजाय रोगियों को गाने, नृत्य करने, परिवार के सदस्यों से नियमित रूप से मिलने और यहां तक कि विवाह समारोह आयोजित करने के लिए प्रोत्साहित किया।

N.I.C.E प्रोटोकॉल के बारे में- डॉ. बिस्वरूप रॉय चौधरी ने 750N.I.C.E (नेटवर्क ऑफ इन्फ्लुएंजा केयर एक्सपर्ट्स) की एक टीम बनाई, जिन्होंने जून 2020 से अब तक 60,000 से अधिक कोविड-19 रोगियों को ठीक किया।
यह सब तब शुरू हुई जब डॉ. बिस्वरुप रॉय चौधरी उस समय स्वास्थ्य मंत्री रहे डॉ. हर्षवर्धन से संसद भवन में 05 मार्च 2020 को मिले। उन्होंने डॉ. हर्षवर्धन को सुझाव दिया कि कोविड -19 रोगियों को डाइट पर आधारित उपचार प्रोटोकॉल का पालन करने दें (जिसको बाद में N.I.C.E का नाम दिया गया) और सभी प्रकार के कोविड -19प्रतिबंध, जिसमें लॉकडाउन भी शामिल है, और कोविड-19केप्रायोगिकउपचारों के कारण बढ़तीमृत्यु दर को भीरोकाजासके। डॉ. हर्षवर्धन ने सुझाव को अस्वीकार कर दिया। इसलिए डॉ. बिस्वरूप रॉय चौधरी नेN.I.C.E टीम बनाने का फैसला किया जिसमे उन्होंने (लिंकन विश्वविद्यालय मलेशियाऔर श्रीधर विश्वविद्यालयराजस्थान) के माध्यम से 3000 से अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया और 24 घंटे मुफ्त सेवाकेअन्तर्गतइलाज करना शुरू किया।इसमुफ्तसेवा2 जून 2020 को कोविंड- 19 हेल्पलाइन +91-8587059169, को लांच कीगईजिसके ज़रिये उन्होंने 60,000 से अधिक रोगियों को शुन्य मृत्यु दर, बिना किसी साइड इफेक्ट्स और दवाइयों के ठीक कर दिया। N.I.C.E प्रोटोकॉल के आधार पर कोविंड- 19 रोगियों का इलाज अहमदनगर, जयपुर और भोपाल के केंद्र सहित राष्ट्रीय स्तर पर कई कोविंड- 19 केंद्रों में किया गया। N.I.C.E प्रोटोकॉल को जनता के लिए उपलब्ध कराने के लिए, उन्होंने 25 जुलाई 2020 को एक पुस्तक “नाइस वे टू क्योर कोविंड-19″का विमोचन किया, जो amazon.in पर तुरंत बेस्ट सेलर बन गई। यह पुस्तक www.biswaroop.com पर मुफ्त में डाउनलोड की जा सकती है।

N.I.C.E में पंजीकृत रोगियों में से लगभग 20% से 35% रोगियों को गंभीर रोगियों के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता था, जिनमें से कई में ऑक्सीजन का दर (Spo2) 70% से कम और एचआरसीटी स्कोर15 से अधिक था। हालांकि, किसी भी रोगी को अलग से ऑक्सीजन सप्लाई देने की ज़रूरत नहीं पड़ी। डॉ. बिस्वरूप रॉय चौधरी ने देखा कि N.I.C.E की देखरेख में आने से पहले, अधिकांश गंभीर रोगियों को या तो वैक्सीनशन लगाया गया था या डब्लूएचओ द्वारा बताये गए प्रोटोकॉल के अनुसार पहले से ही इलाज चल रहा था।
उन्होंने एच.आई.आई.एम.एस.HIIMS(हॉस्पिटल एन्ड इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंटीग्रेटेड मेडिकल साइंसेस) का डेराबस्सी (चंड़ीगढ़) में विमोचन किया। अध्यक्ष आचार्य मनीष और निदेशक डॉ. अमर सिंह आजाद, एम.बी.बी.एस, एमडी पेडियाट्रिशियन और एमडी कम्युनिटी मेडिसिन और डॉ. अवधेश पांडे, एमबीबीएस, एमडी रेडियोलॉजी ने भी मीडिया को संबोधित किया। HIIMSपहला ऐसा अस्पताल है, जो एलोपैथी, होम्योपैथी, प्राकृतिक चिकित्सा और आयुर्वेद का’रोगीकेन्द्रित’इलाज प्रदान करता है। यहां का इलाज करने का तरीका (N.I.C.E प्रोटोकॉल के अनुसार है) जिसकी मदद से 60 से अधिक गंभीर बिमारियों का इलाज किया जा सकता है, जिसमे कैंसर, डायबिटीज और ह्रदय रोग भी शामिल है।
डॉ विश्वरूप रॉय चौधरी ने विधायक श्री नीलेश ज्ञानदेव लंके (अहमदनगर कोविद केंद्र के प्रभारी), प्रो. डॉ. के सत्यलक्ष्मी, निदेशक, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ नेचुरोपैथी, पुणे,डॉ सत्यनाथ, वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ नेचुरोपैथी, पुणे, डॉ युवराज पॉल, वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ नेचुरोपैथी, पुणे, डॉ प्रवीण सी, चिकित्सा अधिकारी नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ नेचुरोपैथी-पुणे, डॉ ज्योति कुंभर, चिकित्सा अधिकारी, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ नेचुरोपैथी-पुणे, डॉ परेश वाडेकर, चिकित्सा अधिकारी, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ नेचुरोपैथी- पुणे, डॉ पराग वाडेकर, चिकित्सा अधिकारी,नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ नेचुरोपैथी-पुणे को उनके अपार योगदान और समर्थन के लिए को भी हार्दिक धन्यवाद दिया..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *