खानपान में बदलाव से जटिल बीमारियों का इलाज संभव…जानिए वैज्ञानिक डॉ. एस. कुमार की महत्वपूर्ण बातें..

रिपोर्ट- भारती बघेल

प्रसिध्द न्यूट्रिनिस्ट और बायोकेमिस्ट डॉ. एस कुमार ने रविवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि दवा नहीं बल्कि अच्छे खानपान से जटिल बीमारियों का इलाज संभव है…

डायबिटीज के क्षेत्र में वर्षों के शोध के बाद वे दावा करते हैं कि हमारे देश में अधिकांश लोग जिन्हें शुगर का मरीज घोषित कर दिया गया है..असल में वे रोगी नहीं हैं….ऐसे लोगों को स्वस्थ रहने के लिए अपने खानपान में बदलाव करने की जरुरत है..इसके साथ ही जीवनशैली में बदलाव और पोषण के आवश्यक तत्व लेने की भी जरुरत है…

नागपुर के रहने वाले डॉ. एस कुमार ने चर्चा में कहा कि हमारे शरीर का औसतन 75 प्रतिशत भाग में पानी है…जो कि एक अल्कलाइन है…जबकि हम जो अपने खानपान में लेते हैं उनमें से अधिकांश एसिडिक है…ऐसे में वह हमारे शरीर की कोशिकाओं को प्रभावित करता है…शरीर की अपनी खुद की हिलिंग क्षमता होती है…वह बीमारियों से लड़ने के लिए स्वयं सक्षम होता है…कोई भी चिकित्सा पध्दति हो… एलोपैथी, होम्योपैथी या आयुर्वेदिक…सबका अपनी- अपनी जगह अलग महत्व है…

वहीं डॉ. कुमार ने यह भी कहा कि आयोडाइज नमक स्वास्थ्य के लिए सही नहीं है…इसकी जगह हमें सेंधा नमक का इस्तेमाल करना चाहिए…दूध की प्रवृत्ति अम्लीय की है, जो शरीर के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है…इसी तरह से गेहूं की तुलना में ज्वार, बाजरा, मक्का जैसे मोटे अनाज लाभदायी हैं…वो तेल हो या पामोलिन हो…सूर्यमुखी हो या कोई और शरीर के लिए अच्छा नहीं है…सबसे बेहतर राइस ब्रान अर्थाति धान के छिलके से बनने वाला तेल होता है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *