गाजीपुर बॉर्डर पर भिड़े बीजेपी कार्यकर्ता और किसान

रिपोर्ट- भारती बघेल

दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों और बीजेपी नेताओं के बीच हंगामा हो गया…जैसा कि आप जानते हैं कि किसान अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठे हैं…बताया जा रहा है कि आज गाजीपुर बॉर्डर पर बीजेपी कार्यकर्ता बीजेपी से जुड़े किसान नेताओं से मिलने पहुंचे…लेकिन देखते ही देखते बवाल शुरु हो गया…बीजेपी के समर्थक नेता हैं उनका कहना है कि किसानों ने हंगामा और पथराव शुरु कर दिया…हालांकि दोनों पक्ष हंगामे को लेकर अपनी- अपनी सफाई दे रहे हैं…

भारतीय किसान यूनियन ने किया ट्वीट
हंगामें के बाद भारतीय किसान यूनियन की तरफ से ट्वीट किया गया जिसे किसान नेता राकेश टिकैत ने रिट्वीट भी किया…ट्वीट में लिखा गया है कि
—-भाजपा के कार्यकर्ताओं ने आज गाजीपुर बॉर्डर पर फ्लाईवे के बीच मंच के पास भारी संख्या में इकट्ठे होकर किसी नेता के स्वागत के बहाने ढोल बजाकर आंदोलन विरोधी नारे लगाए….भाकियू कार्यकर्ताओं के मना करने लाठी डंडों से हमला किया… जिसमे किसान घायल हुए हैं…

इसके थोड़ी ही देर बाद भारतीय किसान यूनियन की तरफ से एक और ट्वीट किया गया..जिसमें कहा गया कि….
—भाजपा अब आंदोलन को हिंसा से तोड़ना चाहती है जिसका उदाहरण आज की गाजीपुर बॉर्डर पर भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा की गई हिंसा है… सभी किसानों से अनुरोध है इनके बहकावे में ना आएं और अपने आंदोलन को बचाए रखें…

जैसा कि आप जानते हैं कि किसान आंदोलन को करीब 7 महीने पूरे हो चुके हैं …न किसान झुकने को तैयार हैं और न सरकार…जहां एक तरफ आंदोलनकारी किसान अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठे हैं वहीं दूसरी तरफ सरकार भी अपना रवैया पहले ही साफ कर चुकी है…सरकार ये बहुत पहले ही साफ कर चुकी है कि कानूनों में संशोधन की गुंजाइश तो है लेकिन इसे वापस लेना मंजूर नहीं…

किसान आंदोलन शुरुआत से अब तक कई रुप बदल चुका है…लेकिन आप इसे किसानों का आत्मविश्वास मानिए या जिद कि करीब 7 महीन हो गए…कड़कड़ाती ठंड से लेकर देह जलाती गर्मी तक ये आंदोलन टस से मस नहीं हुआ…आजाद भारत में ये पहला किसान आंदोलन है जो कहता है कि आजादी के बाद भी उससे हक छीने जा रहे है…साथ में ये कहने से भी कभी नहीं चूका कि केंद्र सरकार उस पर जबरदस्ती तीन नए कृषि कानून थोप रही है जिसके लिए वो राजी नहीं हैं…

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा पहुंचे गाजीपुर बॉर्डर
हाल ही में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे थे…वहां पहुंचकर उन्होंने अपना समर्थन दिया.. और कहा कि भविष्य में भी हम किसान आंदोलन के साथ हैं…इस बात की पुष्टि खुद राकेश टिकैत ने ट्वीट करके की..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *