Thursday, July 18, 2024
HEALTH

बिना सर्जरी के दिल का छेद बंद करने में पाई कामयाबी

रिपोर्ट: प्रज्ञा झा, संवाददाता, नेशनल खबर

फेलिक्स हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने बिना ओपन हार्ट सर्जरी के एट्रियल सेप्टल डिफेक्ट (एएसडी) का इलाज करने में सफालता पाई है। मरीज के दिल में छेद होने के कारण उसे सांस लेने की समस्या बनी हुई थी। कर्डियोलॉजिस्ट डॉ. सिद्धार्थ सम्राट का कहना है कि हरियाणा के 23 वर्षीय पुरुष सचिन यादव को सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के साथ फेलिक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें सांस फूलने की समस्या बनी हुई थी। जांच में पता चला कि मरीज को 10 मिमी का एट्रियल सेप्टल डिफेक्ट (एएसडी) था। जो एक जन्मजात हृदय की स्थिति है। जिसमें एट्रियल सेप्टम में छेद होता है। एएसडी के आकार और रोगी के लक्षणों को देखते हुए, ओपन-हार्ट सर्जरी की आवश्यकता के बिना छेद को बंद करने के लिए न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रिया का उपयोग करके मरीज का इलाज करने का निर्णय लिया गया। इसके लिए एट्रियल सेप्टल ऑक्लुडर की विधि को चुना। जिसमें एक पतली लंबी तार का उपयोग किया गया। तार के माध्यम से ऑक्लुडर डिवाइस को सावधानीपूर्वक एएसडी के ऊपर स्थापित किया गया और छेद को प्रभावी ढंग से बंद किया गया। इस प्रक्रिया में 30 मिनट का समय लगा। एट्रियल सेप्टल ऑक्लुडर का उपयोग करके एएसडी को सफलतापूर्वक बंद करने के बाद मरीज को राहत पहुंची। तबीयत स्थिर होने के बाद मरीजों को डिस्चार्ज कर दिया गया है। एएसडी दीवार में एक जन्मजात हृदय दोष है जो हृदय के दो ऊपरी कक्षों (एट्रियल सेप्टम) को अलग करता है। इस दीवार को आलिंद पट कहते हैं। जन्म के समय दो अटरिया के बीच एक छोटा सा छिद्र मौजूद होता है, जो आमतौर पर बाद में बंद हो जाता है। छेद हृदय के बाईं ओर से दाईं ओर ऑक्सीजन युक्त रक्त के रिसाव का कारण बनता है, जिसका अर्थ है कि हृदय के दाईं ओर अतिरिक्त काम करने के कारण दाएं वेंट्रिकल से फेफड़ों में अतिरिक्त रक्त प्रवाह होता है। एक ओस्टियम सेकुंडम एएसडी आलिंद पट के केंद्र में एक छेद है। आमतौर पर बायां भाग शरीर में ऑक्सीजन युक्त रक्त पंप करता है, जबकि हृदय का दाहिना भाग ऑक्सीजन रहित रक्त को फेफड़ों में पंप करता है। एक ओस्टियम सेकुंडम एट्रियल सेप्टल डिफेक्ट (एएसडी) दोनों तरफ से रक्त के मिश्रण की अनुमति देता है, जिससे हृदय की कार्य क्षमता कम हो जाती है। एक छोटे आकार का छेद कई समस्याओं का कारण नहीं बन सकता है। एक बड़ा छेद श्वसन संक्रमण, सांस की तकलीफ, अनियमित हृदय ताल, बेहोशी जैसी कई समस्याओं का कारण बन सकता है और फुफ्फुसीय धमनी उच्च रक्तचाप या दिल की विफलता का कारण बन सकता है। एट्रियल सेप्टल डिफेक्ट (एएसडी) एक गंभीर बीमारी है। अगर शीघ्र निदान और उपचार किया जाए तो स्वस्थ और सक्रिय जीवन जीने से नहीं रोका जा सकता है। अस्पताल एंजियोग्राफी, एंजियोप्लास्टी और पेसमेकर इम्प्लांटेशन सहित कई प्रकार की हृदय संबंधी सेवाएं प्रदान करता है। विशेष रूप से अस्पताल जन्मजात और हृदय रोगों के लिए न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रिया की सुविधाएं प्रदान करता है। इनमें एट्रियल सेप्टल दोष (एएसडी), वेंट्रिकुलर सेप्टल दोष (वीएसडी), पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (पीडीए), गंभीर माइट्रल स्टेनोसिस, गंभीर फुफ्फुसीय स्टेनोसिस और गंभीर महाधमनी। स्टेनोसिस, ओपन-हार्ट सर्जरी की आवश्यकता के बिना जन्मजात हृदय रोगों के लिए डिवाइस क्लोजर सहित उन्नत न्यूनतम इनवेसिव कार्डियक सुविधा है। जन्मजात और हृदय रोगों से बचने के लिए एक्सर्शनल डिस्पेनिया वाले मरीजों विशेष रूप से युवाओं को 2डी ईको, कार्डियोग्राफी जांच करानी चाहिए। जल्द जांच और इलाज से हृदय रोगों का इलाज आसान होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *