शराब और सिगरेट की लत छुड़ाओ, खुद को स्वस्थ बनाओ

रिपोर्ट- भारती बघेल

नमस्कार आज हम बात करेंगे कि शराब और सिगरेट की लत छुड़ाने के लिए क्या करें..क्योंकि ये तो सभी जानते हैं कि ये स्वास्थ के लिए कितनी हानिकारक है…और आज हम आपको यही बताएंगे कि अगर इसे समय रहते नहीं बदला तो हमारी जिंदगी हमारे हाथ से निकल जाएगी…इसे डॉ. बिस्वरुप रॉय चौधरी ने बहुत ही आसान भाषा में समझाया है…आपको भी इन बातों पर जरुर ध्यान देना चाहिए….

—तो अब पहला सवाल तो यही आता है कि स्मोक और ड्रिंक से कौन- कौन सी बीमारियां हो सकती हैं?
इसके जवाब में डॉ. बीआरसी ने कहा कि स्मोक और ड्रिंक से लगभग सारी बीमारियां हो सकती हैं…लेकिन सबसे ज्यादा हार्ट- डिसीज, कैंसर,लीवर खराब हो जाता है…और इन सबसे ज्यादा मेंटल बीमारियां, दिमाग का ठीक से काम न करना…अग्रेसिव हो जाना आदि….स्मोक और ड्रिंक से दोनों तरफ से लॉस होता है फिजिकल लेवल पर भी…और मेंटल लेवल पर भी…ये सारी बीमारियां एक साथ हो सकती हैं…जैसे किसी को ट्यूमर भी हो जाता है और साथ साथ हार्ट भी खराब हो रहा है…और लंग्स भी खराब हो रहे हैं…एक बामारी नहीं है तमाम बीमारियां स्मोक और ड्रिंक से होती है…ऐसी- ऐसी बीमारियां होती हैं जिन्हें लोग गिनते नहीं हैं या जिनके बारे में बात करने से कतराते हैं…

—अब सवाल आता है कि इस लत को कैसे छुड़ायें?
पहली बात तो आपको ये समझनी होगी कि अगर हमें किसी चीज़ की आदत है तो वो आदत बनाई भी हमने हैं तो अगर हम आदत बना सकते हैं तो उसे खत्म भी कर सकते हैं….यहां बात उन लोगों की हो रही है जो रोजाना स्मोक या ड्रिंक या दोनों करते हैं…कभी- कभार की बात यहां नहीं हो रही है….सिंपल सा एक फंडा है…आप एक चीज़ को कंटिन्यू 21 दिन तक कीजिए…जब आप ऐसा करते हैं तो वो चीज आपको कितनी भी नापसंद क्यों न हो…ब्रेन उसे पसंद में कन्वर्ट कर देता है…जैसे…आप उस दिन को याद कीजिए जब आपने पहली बार ड्रिंक की थी…क्या हुआ था ….अच्छी लगी थी या कड़वी लगी थी…ऐसे ही जो लोग स्मोक करते हैं वो उस दिन को याद करें जब उन्होंने पहले दिन स्मोक की थी…क्या हुआ था क्या वो स्मैल अच्छी लगी थी पहली बार में..या बेकार…कुछ ऐसे भी होंगे जिन्हें खांसी आई होगी…लेकिन फिर भी आपने छोड़ा नहीं और धीरे धीरे ये आपकी आदत बन गई…

तो अब भी आपको यही करना है कि अपनी इस बुरी आदत को खत्म करने के लिए…पहले तो आपको अपने मन में ये बोलना है कि मैं अपनी इस आदत को बदल दूंगा…वजह बहुत सारी हो सकती हैं आपके पास…क्योंकि अगर इससे आपको कोई बीमारी लगी तो इलाज कराते कराते घर के आर्थिक हालात खराब हो जाएंगे…और अगर इस बुरी आदत के चक्कर में आपकी जान चली गई तो वो जिम्मेदारियां कौैन निभाएगा जो आप निभा रहे थे…वजह आज के वक्त में इतनी सारी और बड़ी बड़ी हैं कि उनके सामने आपकी ये आदत बहुत छोटी पड़ जाएंगीं…आप एक बार तराजु में तौल कर तो देखिए अपनी बुरी आदतों और जिम्मेदारियों को…मेरा दावा है कि जिम्मेदारियों का पलड़ा आपको ज्यादा भारी मिलेगा…खैर ये बात डॉ. बिस्वरुप रॉय सर ने नहीं कहीं ये मेरी अपनी सोच है…

—उन्होंने क्या कहा है चलिए आपको विस्तार में बताते हैं…
उनका कहना है कि आप 21 दिन का टास्क लीजिए…जैसे जो लोग गुटखा खाते हैं वो तय करें कि 21 दिन तक वो गुटखा नहीं खाएंगे…लेकिन ये भी सच है कि आपका मन भी करेगा…तो उस वक्त क्या करना है…अपने पास हमेशा काजू रखिए…जैसे ही गुटखा खाने का मन करे …एक काजू लो औऱ खा लो…खाते टाइम बोलो वाह मजा आ गया गुटका खा कर…पता है कि ये थोड़ी बेवकूफाना हरकत लगेगी…लेकिन जब तक आप ऐसा कर रहे होंगे…तब तक जो लत आपको उठ रही थी गुटखा खाने की वो डाउन हो जाएगी…इसी क्रम में 21 दिन आपको चलना है…22वें दिन गुटखा आपके सामने भी पड़ा होगा तब भी आप छुएंगे नहीं….ऐसे ही ड्रिंक जो लोग करते हैं वो भी ऐसे ही करें 21 दिन जब भी ड्रिंक करने का मन करे…कोई भी एक जूस लो और पीने बैठ जाओ और पीते पीते बोलो वाह मजा आ गया…ड्रिंक करके…ऐसे ही स्मोक के केस में करना है….

और सबसे जरुरी बात अगर आप आदत छुड़ाना वाकई में चाहते होंगे तो ये 21 दिन वाला नुस्खा आपके जरुर काम आएगा…और अगर नहीं चाहते तो कोई भी व्यक्ति आपकी आदत सुधार नहीं सकता…क्योंकि आदत आपने बनाई है तो इसे सुधारने का ठेका भी आपको ही लेना पड़ेगा…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *