Tuberculosis या टीबी से पाएं हमेशा के लिए मुक्ति?

रिपोर्ट- भारती बघेल

नमस्कार ….आज हम बात करेंगे टीबी पर जिसे अंग्रेजी भाषा में ट्यूबरक्लोसिस कहते हैं…और इस पर विस्तार से चर्चा करने के लिए डॉ. बिस्वरुप रॉय चौधरी जी के पास पहुंचे…और उनसे की सीधी बात…

—-तो इसी के साथ पहला सवाल आता है कि टीबी क्या है और क्यों होती है?
इस पर डॉ. बी.आर.सी ने जवाब दिया कि टीबी एक बैक्टीरियल डिसीज है…हमारी बॉडी में हर समय बैक्टीरिया और वायरस होते हैं जो कि रहते ही हैं..और ये बैक्टीरिया हमारी बॉडी में रहते हुए हमारी बॉडी के कई सारे काम भी करते हैं…जैसे हमारे पेट में 500 अलग-अलग तरह के बैक्टीरिया हैं जिनका काम होता है हमारे पेट के कैमिकल प्रोसेस को संभालना…चाहें वो इम्युनिटी से जुड़ा हो , डाइजेशन से जुड़ा हो…या प्रोडक्शन ऑफ इंसुलिन से जुड़ा हो…या अलग- अलग हार्मोन के बैलेंस बनाने से जुड़ा हो…तो ये सारी कैमिकल एक्टिविटीज को बनाए रखने का हमारी बॉडी के अंदर बैक्टीरियाओं का होता है…हमारी बॉडी में हजारों तरह के बैक्टीरिया हैं और उन्हीं में से एक बैक्टीरिया का नाम है ट्यूबरक्लोसिस….वहीं इस बैक्टीरिया की लेवल एक तादाद से बढ़ जाए तो कभी कभी ये हमारी बॉडी पर हावी हो सकते हैं…और जब हावी हो सकते हैं तो हमें ये बीमार कर सकते हैं…तब बोलते हैं कि आपको टीबी हो गया…

—अब सवाल आता है कि ट्यूबरक्लोसिस में बीमारी क्या होती है?
तो इसमें वहीं बीमारी होती है जो फ्लू की बीमारी होती है जैसे – खांसी आना, बुखार आना, सिर दर्द करना,बॉडी पेन करना,कप आना…अगर ये सारी चीजें लंबे समय तक रहती हैं जैसे तीन हफ्ते, चार हफ्ते जा ही नहीं रहा तो आप बोल सकते हैं कि ये टीबी से लक्षण हैं..

—अब अगला सवाल आता है कि इसके बचाव के लिए क्या करें?
इस पर डॉ. बी.आर.सी ने कहा कि अगर आपकी बॉडी की इम्युनिटी अच्छी होगी तो वही आपका बचाव करेगी…अब सवाल आता है कि अपनी इम्युनिटी को कैसे स्ट्रांग रखें…इसके लिए प्वाॉइंट 2 ग्राम विटामिन- सी फल और सब्जियों के फोर्म में आपको रोजाना खाना है…जैसे एक बड़ा अमरुद खा लेंगे तो प्वाॉइंट 2 ग्राम हो गया….2 संतरे खा लेंगे तो प्वाॉइंट 2 ग्राम विटामिन हो गया…या फिर आप 3 बड़े आम खा लेंगे तो प्वाॉइंट 2 ग्राम विटामिन हो गया…चार बड़े टमाटर खा लीजिए तो प्वाॉइंट 2 ग्राम विटामिन हो गया..और अगर आप ये सब चीजें नहीं खाना चाहते हैं तो आप एक मुट्ठी भरकर मटर खा लीजिए तो भी आपने करीब प्वाॉइंट 2 ग्राम विटामिन से ज्यादा खा लिया…वहीं आप तीन चार तरह के फल भी खा सकते हैं…अगर इनमें से कोई एक भी चीज़ लगातार खाएंगे तो आपकी इम्युन्टी स्ट्रॉंग बनॉी रहेगी साथ में 5 से 10 मिनट धूप में भी बैठिए…

—वहीं अब आखिरी सवाल आता है कि इसका इलाज क्या है?
डॉ. बीआरसी ने कहा कि मेरे हिसाब से इलाज ये हा कि आपको अपनी इम्युनिटी को स्ट्रांग करना है…तो इसमें आपको दो बातों का ध्यान रखना होगा…
नंबर1-–जिस वक्त आप ऐसे फील कर रहे हो कि आपकी बॉडी में फीवर है..तो आप थ्री- स्टेप फ्रूट डाइट फॉलो कीजिए…इसमें आपको करना क्या होगा..इसमें पहले दिन आपको नारियल पानी पर रहना होगा…साथ ही 12-14 गिलास आपको जूस पीना होगा पूरे दिन में …क्योंकि हमारा पहला गोल है कि आपके टेम्प्रेचर कंट्रोल में आ जाए..ये टेम्प्रेचर हो सकता है कि एक दिन में कंट्रोल में आ जाए..अगर फिर भी न आए तो दोबारा आपको अगर दिन फिर वहीं करना है लेकिन इस बार नारियन पानी के जूस करीब करीब 4 से 8 गिलास ही लेना है…इसके अलावा आप करीब 300 ग्राम वेजिटेबल खाइए..जैसे टमाटर खीरा आदि….तो अगर आप ये सब करोगे तो तीसरे दिन 99.9 परसेंट आपका टेंम्प्रेचर कंट्रोल में आ जाएगा…फिर उसके आपको DIP डाइट पर आ जाना है… मतलब….12 बजे तक फलों पर रहना है जितने में आपका पेट भर जाए…लंच और डिनर से पहले कच्ची सब्जियों का सलाद बनाकर खाइए…कुक फूड आप दिन मे बस एक बार ही लीजिए….साथ में नारियल पानी भी लेते रहिए..एक से दो करीब…वहीं 10 से 15 मिनट धूप में बैठना है…ये आप अगर लगातार करीब 2 हफ्ते तक करते रहेंगे तो हो सकता है आपके आपके ट्यूबरक्लोसिस के सिमटम्स खत्म हो जाएं…

तो दोस्तों सबसे पहले तो आप हमें कमेंट करके बताएं कि आपको ये लेख कैसा लगा…इसके साथ ही अगर आप इस लेख की वीडियो देखना चाहते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल नेशनल खबर पर जाकर देख सकते हैं…हमारे यूट्यूब चैनल National khabar पर हम भारत के जानेमाने डॉक्टर्स के साथ चर्चा करके आपके लिए सफल और सस्ता इलाज लेकर आते हैं…इसलिए आप भी हमारे नेशनल खबर के परिवार के साथ जुड़िए और खुद को स्वस्थ बनाइए…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *