Wednesday, May 29, 2024
HEALTH

हार्ट अटैक, आजकल हो रही मौत का सबसे बड़ा कारण

रिपोर्ट: गेटी भाव्या

हार्ट अटैक, आजकल हो रही मौत का सबसे बड़ा कारण, आखिर क्या है इसके पीछे का राज?
क्यों आजकल लोग ज्यादातर हार्ट अटैक का शिकार हो रहे हैं, वजह क्या है इंसानी जीवन के खतरे में पड़ने की।

आइए जानते हैं–

हार्ट अटैक का एक बहुत बड़ा कारण है अन–हेल्थी लाइफस्टाइल, आजकल के जमाने में युवा पीढ़ी अपने खान–पान का ज्‍यादा ध्‍यान नहीं रखती है, ना तो समय पर खाती है और ना ही खाने के लिए पौष्टिक आहार चुनती है, इन्हें बस बाहर का फास्ट फूड पसंद आता है और साथ ही में आज की युवा पीढ़ी शराब और सिगरेट का भी सेवन करती हैं। जो कि इनके शरीर के लिए काफी हानिकारक है।

आज के जमाने में हर 5 में से 2 को दिल की बीमारी आसानी से मिल जाएगी, लेकिन देश में कुछ ऐसे भी लोग हैं जो स्वस्थ खाना खाते हुए भी हार्ट अटैक जैसी बीमारी का शिकार होते जा रहे हैं।

हेल्थी इंसान भी हो रहे हैं हार्ट अटैक का शिकार–

लोगों की अन– हेल्थी लाइफस्टाइल और खानपान की वजह से समझ में आता है कि वह क्यों हार्टअटैक जैसी बीमारी की चपेट में आ रहे हैं, लेकिन जो लोग हेल्थी लाइफ में विश्वास रखते हैं उनका क्या, उन्हें क्यों इस बीमारी ने जकड़ लिया है। तो हमने रिसर्च किया और पाया कि जब भी किसी को हार्ट अटैक आता है तो उन्हें इस बात का कुछ समय पहले ही एहसास हो जाता है, जैसे उन्हें एसिडिटी, या गैस हुई इत्यादी, लेकिन वो उसे नज़रंदाज़ कर देते हैं और उनको समय में इलाज नहीं मिल पाता तो उनकी मौत हो जाती है। जब भी हार्ट अटैक आता है तो उन्हें ब्रेन 1 तरीके से सिग्नल भी देता है और उस समय ब्रेन को ऑक्सीजन चाहिए होती है जो कि उन्हें समय पर नहीं मिल पाती, जिसकी वजह से वो हॉस्पिटल में जाते जाते ही अपनी स्वास छोड़ देते है।

क्या हार्ट अटैक का करण ठंड है?–

आजकल आपने सर्दियों में हार्ट अटैक कि कई खबरे सुनी होंगी, ये बात सच भी है की ठंड में हार्ट अटैक के चांस बढ़ जाते हैं, बता दें डॉक्टर्स का भी मानना है कि ठंड में ब्लड वेसल्स यानि रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाति है, जिसके वजह से ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है और हार्ट अटैक और स्टॉर्क के चांस बढ़ जाते हैं , जहां ठंड में शरीर के तपमान को नियंत्रित करने के लिए दिल ज्यादा काम करता है तो शीत लहर इस काम को और भी ज्यादा मुश्किल बना देती है। जिसकी वजह से ठंड में हृदय संलग्न की संभावना बढ़ जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *