Friday, May 31, 2024
HEALTH

Diaboplasty Protocol 369 से होगी डायबिटीज खत्म !

रिपोर्ट: – प्रज्ञा झा, संवादाता नेशनल खबर


डायबिटीज के मरीजों की संख्या जैसे- जैसे बढ़ती जा रही है वैसे -वैसे इलाज के भी कई तरीके सामने आ रहे हैं न सिर्फ diabetes के इलाज में बल्कि डायबिटीज के हॉस्पिटल्स में भी भिन्नता आ रही है। अलग- अलग पैथियाँ अपने -अपने हिसाब से आपको ठीक करती हैं या आपका उपचार करती हैं। कुछ इलाजों का असर जल्दी होता है, तो कुछ का काफी देर में Diaboplasty Protocol 369 एक ऐसा सिद्धांत है जिसमें सिर्फ डाइट के माध्यम से किसी भी मरीज पर काम किया जाता है। Diaboplasty Protocol 369 से लगातार सालों से मरीज का इलाज कर रहे शोधकर्ता डॉ एस कुमार के मुताबिक अगर कोई डायबिटिक 1 साल 4 दिन उनका इलाज लेता है या उनके कहे मुताबिक ही अपनी जीवन शैली रखता है तो उसकी डायबिटीज रिवर्स होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। Diabetes मरीज के मन की दुविधा हमेशा ये रही है की क्या खाया जाए और क्या नहीं तो इस दौरान आपको सिर्फ डाइट से ही ठीक किया जा सकता है। इस बात की पुष्टि के लिए विगत दिनों नेशनल खबर की पूरी टीम जयपुर पहुंची जहाँ डॉ कुमार और उनके मरीज के बीच में जो वार्ता हुई उसे देखने के लिए नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें।
जिस मरीज की हम बात कर रहे हैं उन्हें पिछले 12 सालों से डायबिटीज थी लेकिन डॉ कुमार से इलाज के बाद उनकी स्थिति क्या है ये देखने के लिए ऊपर दिए हुए लिंक पर जाएं।

आइए जानते हैं एस कुमार के बारे में
डॉ. एस कुमार Appropriate Diet Therapy Centre के संस्थापक हैं । डॉ. एस कुमार पीएचडी होल्डर होने के साथ साथ “डॉक्ट्रेट ऑफ लिटरेचर” की डिग्री रसियन यूनिवर्सिटी से प्राप्त कर चुके हैं साथ ही 3 बार गोल्ड मेडलिस्ट भी रहे हैं । डायबिटीज की दुनियां में शोध करने के लिए उन्हें फ्रांस की सीनेट में भारत गौरव अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। इतना ही नहीं डॉ. एस कुमार को लंदन की 200 साल पुरानी पार्लियामेंट में डायबिटीज पर शोध के लिए बेस्ट साइंटिस्ट के अवार्ड से भी नवाजा गया है।
डॉ. एस कुमार अभी तक कई किताबें भी लिख चुके हैं, जिनमें से एक पुस्तक को राष्ट्रपति भवन के पुस्तकालय में स्थान भी दिया गया है। भारत में Appropriate Diet Therapy Centre की 56 से अधिक शाखाएं संचालित हैं यदि आप भी संपर्क करना चाहते हैं तो दिए गए नंबर कॉल करें : +91 9372166486

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *