Friday, May 31, 2024
National

कर्नाटक में हिजाब v/s भगवा ! क्या होगा हाई कोर्ट का फैसला

रिपोर्ट- भारती बघेल

कर्नाटक में हिजाब को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है। कुछ लोग इसके पक्ष में नज़र आ रहे हैं तो वहीं कुछ लोग इसके विरोध में नज़र आ रहे हैं। इसी बीच राज्य के गृहमंत्री ने अपील की है कि सभी पक्ष शांति बनाकर रखें। ये विरोध प्रदर्शन देखते- देखते इतना बढ़ गया कि राज्य सरकार को तीन दिन के लिए स्कूल बंद करने पड़े। राज्य के कुछ हिस्से हैं जैसे- उडुपी, शिवमोग्गा, बागलकोट आदि। ये कुछ ऐसे हिस्से हैं जहां विवाद काफी बढ़ गया है। वहीं कुछ छात्र ऐसे भी हैं जो भगवा शॉल पहनकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

राज्य के सीएम बसवराज बोम्मई ने ट्वीट करके कहा है कि सभी शांति बनाकर रखें। उन्होंने छात्रों, शिक्षकों, स्कूलों और कॉलेजों के प्रबंधन के साथ- साथ कर्नाटक की जनता से भी शांति और सद्भाव बनाए रखने की अपील की है। साथ में सभी संबंधितों से सहयोग का अनुरोध किया है।

हाइकोर्ट ने इस मामले को लेकर साफ शब्दों में कह दिया है कि हम तर्क और कानूनों के आधार पर चलेंगे। यहां भावनाएं और जुनून को कोई काम नहीं है। जो देश का संविधान कहता है, हम उसी के मुताबिक चलेंगे। कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि सिखों को न सिर्फ भारत बल्कि कनाड़ा और ब्रिटेन ने उनकी परंपरा को आवश्यक धार्मिक परंपरा के तौर पर माना था।

मंगलवार को कॉलेज कैंपस में एक लड़की अल्ला- हू- अकबर के नारे लगाती नज़र आयी, तो वहीं कुछ छात्रों ने उसका जवाब जय श्री राम के नारे से दिया। जिसके बाद राज्य के शिक्षा मंत्री का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि हम कॉलेज में अल्ला- हू- अकबर और जय श्री राम के नारे को बढ़ावा नहीं दे सकते।

वहीं इस मामले में कई और नेताओं के बयान भी सामने आए हैं। आपको बता दें कि प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि लड़कियां बिकनी पहनें या हिजाब ये उनकी अपनी मर्जी है। आगे उन्होंने कहा कि महिलाओं का पहनावा अपनाने का अधिकार हमारा संविधान देता है। वो जो चाहें वो पहन सकती हैं। महिलाओं को परेशान करना बंद कर दो।

वहीं ओवैसी भी राजनीतिक रोटियां सेंकने में पीछे नहीं रहे। उन्होंने कहा कि मेरी जो भी हिजाब पहनने के अधिकार के लिए लड़ रही हैं उन्हें सफलता मिले। साथ ही बीजेपी को आड़े हाथ लेते हुए उसकी निंदा की।

यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य का बयान भी सामने आया है उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी जानबूझकर ऐसे विवाद करवाती है। कांग्रेस पार्टी ने जानबूझकर ऐसे लोग पाले हुए हैं। यह मामला सिर्फ ड्रेस कोड को फॉलो करने का था। लेकिन विपक्षी दल जबरदस्ती इसे तूल दे रहे हैं।

इतना ही नहीं कमल हासन ने भी इस मामले पर चिंता जताई है। उन्होंने ट्वीट करके कहा कि कर्नाटक में अशांति फैलाई जा रही है। छात्रों के बीच धार्मिक जहर घोला जा रहा है। जो हमारे पड़ोसी राज्यों में हो रहा है वो तमिलनाडू में नहीं होना चाहिए।

—कर्नाटक के उडुपी से शुरु हुआ ये पूरा विवाद
ये विवाद उडुपी से 1 जनवरी को शुरु हुआ था। जिसके बाद शिमोगा और देखते ही देखते कई जिलों में ये प्रोटेस्ट होने लगा। वहीं कांग्रेस पार्टी ने मांग की है कि राज्य के उन सभी स्कूलों को एक हफ्ते के लिए बंद कर दिया जाए जहां -जहां ये प्रदर्शन हो रहा है।

कर्नाटक में एक कॉलेज हैं कुंडापुरा नाम का। जहां पर 28 छात्राओं को क्लास अटैंड करने से रोका गया क्योंकि उन्होंने हिजाब पहना हुआ था। उसके बाद छात्राओं ने हाइकार्ट में याचिका लगा दी और कहा कि इस्लाम में हिजाब पहनना अनिवार्य है। इसलिए उन्हों हिजाब पहनकर स्कूल और कॉलेज आने की अनुमति दी जाए। और फिर इन छात्राओं ने कॉलेज के गेट के सामने बैठकर धरना देना शुरु कर दिया।

जब लड़कियों ने हिजाब पहनने के लिए आवाज उठाई तो दूसरी तरफ कुछ हिंदु संगठनों ने लड़कों को भगवा शॉल पहनने के लिए कहा। अब ये लड़ाई हिजाब v/s भगवा पर आ गई है।

स्कूल में यूनिफॉर्म इसलिए ही रखी जाती है ताकि सभी छात्र एकसमान दिखें। स्कूल में कोई किसी धर्म का नहीं होता बल्कि सब विद्यार्थी होते हैं। स्कूल को स्कूल ही बनाकर रखना चाहिए न कि मज़हबी अखाड़ा। सभी विद्यार्थी समान दिखने चाहिए। और सबके लिए एक जैसे नियम होने चाहिए। खैर अब देखने वाली बात ये होगी कि हाईकोर्ट इस पर क्या फैसला सुनाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *